मेरे शब्द,मेरी शक्ति!!!

सोंच बदलो, देश बदलेगा!!

17 Posts

9177 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3763 postid : 55

एक महान परिवर्तन की दरकार!!

Posted On: 30 Dec, 2010 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज चारों ओर घोटालों और भृष्टाचार की चर्चा है| रोज अखबार मे किसी किसी घोटाले या किसी नेता की भृष्टता की खबर प्रमुखता से मिल जाती है| जैसे जैसे समय गुजर रहा है, घोटाले की राशि मे भी अधिकता हो रही है| जागरण समाचार पत्र की यह न्यूज़ पढ़कर मै आश्चर्यचकित रह गया की आखिर क्यों भृष्टाचार और घोटालों मे रोक नही लग रही है|
हमारे देश मे भृष्टाचार निरोधक प्रक्रिया बिल्कुल तुच्छ प्रकृति की है| इसी मे एक सी..आइ. है जो देखने मे ऐसा लगता है की यह पूर्ण रूप से स्वतंत्र है, लेकिन नही| यह हमारा भ्रम है| यह पूर्ण रूप से हमारी सरकार के नियंत्रण मे है| अतः सरकार का कोई भी नुमाइंदा घोटाले या भृष्टाचार के आरोप मे पकड़ा जाता है तो सी..आइ. को सरकार से पूछना पड़ता है की अब उसका क्या करना चाहिए? और सरकार जो उसी के समर्थन पर खड़ी है वह अपनी रीढ़ कैसे तोड़ सकती है, कोई जानबूझ कर तो अपने पैर काट नही सकता है| सरकार जिन आधारों पर खड़ी है, वह भृष्ट मंत्री भी उनमे से एक है| अब जब सब कुछ सरकार के हाथों मे है तो वह उस आधार को तोड़ कर खुद को गिरा नही सकती है|
अतः भृष्टाचार निरोधक तंत्र को सरकार के साथ समझौता करके कार्य करना पड़ता है| जबकि अन्य देशों मे ऐसा नही है| वहाँ का भृष्टाचार निरोधक तंत्र पूर्ण रूप से किसी भृष्ट या घोटालेबाज पर कार्यवाही के लिए स्वतंत्र है| उन्हे किसी सरकार से पूछने की आवश्यकता नही है कि उस भृष्ट मंत्री के साथ क्या किया जाए|
इसका ठीक उल्टा हमारे देश मे हो रहा है, सभी के मन मे यह सवाल उठ रहा है कि आखिर ये कब तक चलेगा| जो हॉंगकॉंग मे हो चुका है वह भारत मे भी हो सकता है| वहाँ भी कभी भारत से भी ज्यादा भृष्टाचार था और कोई स्वतंत्र भृष्टाचार निरोधक तंत्र भी नही था लेकिन जब इसके विरोध मे लाखों लोग सड़क पर गये तो सरकार को मजबूरन स्वतंत्र भृष्टाचार निरोधक समित कि स्थापना करनी पड़ी|
मै सोचता हूँ कि ऐसी नौबत भारत मे क्यूँ आएइससे पहले कि भारत भृष्टाचार के दलदल मे समा जाए, क्यूँ एक स्वतंत्र भृष्टाचार निरोधक समिति बना दी जाए| जो किसी भी भृष्ट पर कार्यवाही करने के लिए स्वतंत्र हो| तभी भारत का उद्धार हो सकता है| अतः यह परिवर्तन समय की माँग है| अगर यह परिवर्तन नही होता है तो सभी जानते है की आगे इसका क्या परिणाम हो सकता है!!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

11 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Connor Elmers nubuk के द्वारा
January 25, 2012
abodhbaalak के द्वारा
January 1, 2011

deepak ji keval aasha hi nahi karm se ही नए साल में बदलाव संभव hai. sarahneey rachna ke liye bandhaaio ho http://abodhbaalak.jagranjunction.com

    Deepak Sahu के द्वारा
    January 1, 2011

    सही है अबोध जी कुछ पाने के लिए कुछ कर्म तो करना ही होगा खैर आपको नव वर्ष की हर दिक शुभकामनाएँ

div81 के द्वारा
December 31, 2010

दीपक जी………………नववर्ष की शुभकामनाये नया साल आप के जीवन में खूब सारी खुशियाँ और खूब सारी सफलता लाये आप की और आप के परिवार की मंगल कामना के साथ ……..दिव्या

Syeds के द्वारा
December 31, 2010

दीपक जी, आपने अच्छे विषय पर सवाल उठाया है…उम्मीद करते हैं की २०११ भ्रष्टाचार,आतंकवाद, महंगाई जैसी चीज़ों से मुक्ति दिलाने वाला होगा… http://syeds.jagranjunction.com

    Deepak Sahu के द्वारा
    December 31, 2010

    महोदय जी! ऐसी तो केवल आशा की जा सकती है पता नही सम्भव होगा भी या नही। आपकी प्रतिक्रिया के लिये बहुत बहुत धन्यवाद। दीपक

Syeds के द्वारा
December 31, 2010

दीपक जी, आपने अच्छे विषय पर सवाल उठाया है…उम्मीद करते हैं की २०११ भ्रष्टाचार,आतंकवाद, महंगाई जैसी चीज़ों से मुक्ति दिलाने वाला होगा…

Amit Dehati के द्वारा
December 31, 2010

आपने बहुत ही खुबसूरत विषय पर चर्चा किया है अच्छा लगा लेकिन इससे कोई परिवर्तन होने वाला नहीं, केवल महंगाई बढ़ सकती हैं . हार्दिक बधाई ! http://amitdehati.jagranjunction.com

    Deepak Sahu के द्वारा
    December 31, 2010

    अमित जी यह परिवर्तन अगर नहीं होगा तो २०१० तो बदनाम हो ही chuka है २०११ होगा आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद दीपक

rajkamal के द्वारा
December 30, 2010

दीपक जी ..नमस्कार भारत में वैसी कोई क्रांति सम्भव नही है … इसलिए बस चुपचाप देखते रहिये .. लेकिन ब्लाग जरूर लिखते रहिये ….

    Deepak Sahu के द्वारा
    December 31, 2010

    राज जी agar यह क्रांति नहीं हुयी तो देश का भविष्य खतरे में पड़ जायेगा सुरुआत तो हमें ही करनी पड़ेगी दीपक


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran